मॉर्गेज लोन कैसे लें? मॉर्गेज क्या होता है? ए टू जेड जानकारी लीजिए

मॉर्गेज लोन क्या होता है? एक मॉर्गेज लोन एक लोन है जिसका उपयोग संपत्ति की खरीद के वित्तपोषण के लिए किया जाता है। लोन संपत्ति द्वारा ही सुरक्षित किया जाता है, जिसका अर्थ है कि यदि उधारकर्ता लोन और ब्याज देने से चूक जाता है, तो बैंक संपत्ति नीलाम या फौजदारी कर सकता है और अपने नुकसान की भरपाई कर सकता है।

morges loan kya hota hai

मॉर्गेज लोन आमतौर पर 15-30 वर्षों की अवधि में चुकाया जाता है, जिसमें लोन के अवधि के लिए ब्याज दर तय की जाती है।

मुझे मॉर्गेज लोन के बारे में क्यों जानना चाहिए? घर खरीदने के लिए कम ब्याज दर में लोन पा सकते हैं. सबसे अच्छी बात लोन आसानी से मिलता है और 30 वर्षों तक के लिए मिल सकता है.

मॉर्गेज लोन क्या है? मोरगेज लोन को अगेंस्ट दी प्रॉपर्टी भी कहा जाता है या इसे शुद्ध हिंदी में बंधक लोन बोला जाता है. बैंकिंग की भाषा में इसे सिक्योर्ड लोन के कैटेगरी में रखा जाता है.

सिक्योर्ड लोन का मतलब हुआ कि सुरक्षित लोन, अगर से आसान भाषा में समझे तो बैंक का लोन आपके पास सुरक्षित है. क्योंकि आपने लोन के बदले अपने चल या अचल संपत्ति को बैंक के पास गिरवी रखा है.

जब आप लोन देने से चूक जाएंगे, ऐसे हालात में बैंक आपके संपत्ति का नीलामी करेगा और उससे पूरा पैसा वसूल करेगा.

यदि आप एक बंधक (मॉर्गेज) लोन लेने की योजना बना रहे हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप लोन के सभी पहलुओं को समझें। यह लेख आपको मॉर्गेज लोन के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करेंगे, ताकि आप एक बेहतरीन निर्णय ले सकें।

Table of Contents show

आपको मॉर्गेज लोन क्यों लेना चाहिए? 

भारत में संपत्ति खरीदने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति के लिए एक मॉर्गेज लोन एक अच्छा विकल्प है। कुछ लोगों का सिबिल स्कोर बहुत ही खराब होता है और उसके पास इनकम प्रूफ भी नहीं होता है, उन लोगों के लिए यह लोन एक विकल्प है. 

मॉर्गेज लोन लेने के कई लाभ हैं, जैसे:

  • आपके पास एक निश्चित ब्याज दर होगी: यह फायदेमंद है क्योंकि इसका मतलब है कि आपके मासिक भुगतान समय के साथ नहीं बढ़ेंगे, जिससे बजट बनाना आसान हो जाएगा।
  • आप लोन की लागत को लंबी अवधि के लिए ले सकते हैं: इससे emi कम हो जाती है जिसे आपको हर महीने वापस भुगतान करने की आवश्यकता होती है, जिससे लोन अधिक किफायती हो जाता है।
  • इस लोन पर ब्याज दर कम होती है क्योंकि इसमें बैंक का पैसा डूबने का डर कम होता है.
  • जिसका सिबिल स्कोर खराब है उसे भी यह लोन मिल जाता है.
  • यह लोन उन लोगों के लिए भी अच्छा है जिसके पास कोई इनकम प्रूफ नहीं है.

मॉर्गेज लोन ब्याज दर क्यों कम होता है?

सामान्य तौर पर देखा जाए तो मॉर्गेज लोन की ब्याज दर कम होती है. इस लोन को लेने के लिए लोग अपनी चल या अचल संपत्ति को बैंक के पास गिरवी रखते हैं.

गिरवी रखे हुए संपत्ति से बैंक का लोन पूरी तरह सुरक्षित हो जाता है यानी कि डूबने का चांसेस लगभग जीरो हो जाता है.

आप तो जानते ही हैं कि सुरक्षित लोन का ब्याज दर कम होता है. यही कारण है कि बैंक अपने ग्राहकों को मॉर्गेज लोन कम ब्याज दर पर देना उचित समझता है.

अगर loan नहीं चुकाते हैं तो क्या होता है?

अगर आप समय पर loan नहीं चुकाते हैं तो बैंक के पास आपके property को जब्त करने का अधिकार होता है। Bank द्वारा EMI चुकाने के लिए 3 months का समय दिया जाता है।

अगर 3 months में आप pending EMI नहीं चुकाते हैं तो bank आपके property को टेकओवर कर सकता है। उसे बेचकर अपना loan recover कर सकता है। 

लेकिन property का मालिकाना हक आपका है अगर आप loan नहीं चुका सकते हैं तो आप अपनी property bank को देने के के बजाय उसे बेचकर bank loan चुका सकते हैं।

Bank किस आधार पर property गिरवी रख सकती है?

Transfer of Property Act 1882 के तहत ये प्रावधान है। Bank property गिरवी रख सकती है लेकिन property पर मालिकाना हक नहीं जता सकती है।

बैंक किसी के property तभी जब्त कर सकती है जब  applicant bank से लिए गए loan को नहीं चुका पाता है। ऐसी स्थिति में bank property को बेचकर अपना loan amount recover करती है।

Mortgage Loan के फायदें 

  • Mortgage Loan property के value का 60% तक loan ले सकते हैं। किसी स्थिति में  70-80% तक भी ले सकते हैं। 
  • Maximum 5 लाख से 10 करोड़ तक का loan  15-20 साल तक के लिए ले सकते हैं। ये loan चुकाने का tenure housing finance companies के माध्यम से तय की जाती है।
  • Home loan के तरह इसमें भी down payment कर सकते हैं।  Down payment amount 10-20% तक कर सकते हैं। 
  • Mortgage loan समय से पहले भी चुका सकते हैं। 
  • Loan प्राप्त करने के के लिए आप अपना मालिकाना हक transfer किए बिना अपनी  प्रॉपर्टी का इस्तेमाल कर सकते हैं। 
  • इस loan का interest rate home loan से 1.5-2% ज्यादे होता है। 
  • Loan लेते वक्त bank द्वारा मिलने वाला बीमा जरूर लें.

Mortgage Loan प्राप्त करने के लिए क्या eligibility होनी चाहिए? 

  • Applicant की income और ऑक्यूपेशन stable है तो आसानी से loan मिल जाता है। Applicant का age 23-70 के बीच होनी चाहिए।
  • योग्यता का निर्धारण के लिए credit score, वित्तीय स्थिति और इंकम की भी जांच की जाती है। 
  • आपके assets के तुलना में आपकी liability अधिक है तो loan मिलने में परेशानी हो सकती है। 

Mortgage Loan के लिए Documents  

  • Identify proof 
  • Address proof 
  • Income proof 
  • KYC documents 
  • Property documents 
  • Photo. 

Mortgage Loan कितने प्रकार के होते हैं?

  • Registry Mortgage Loan

इसे Simple Mortgage Loan भी कहते हैं। इस loan में property पर हक मालिक के पास होता है। ये loan अधिकतर लोग उस समय लेते हैं जब घर बनाने के लिए loan लेते हैं। जमीन या घर के documents bank के पास गिरवी रखे जाते हैं।

  • Mortgage by Conditional Sale

इस loan में मालिक खुद bank को अपनी प्रॉपर्टी बेच सकता है। लेकिन इसके लिए कुछ rules हैं। जिनके आधार पर प्रॉपर्टी का मालिक bank को प्रॉपर्टी बेच सकता है इसलिए इस loan को Mortgage by Conditional Sale कहते हैं।

ये mortgage loan अगर कोई व्यक्ति लेता है और loan चुका नहीं पाता है तो प्रॉपर्टी का मालिकाना हक bank को transfer नहीं होता है मालिकाना हक उसके मालिक की होती है। 

  • Usufructuary Mortgage

इस loan का इस्तेमाल भारत में ज्यादातर नहीं होता है। इस loan में प्रॉपर्टी का मालिकाना हक bank के पास होती है। Bank property किराए पर दे सकता है।

किराए से bank अपने loan & interest rate की recovery करता है। Bank के पैसे recovery होने के बाद उस property का मालिकाना हक फिर से applicant को transfer कर दिया जाता है।

बैंक से मॉर्गेज लोन कैसे ले? 

Mortgage Loan उन व्यक्तियों के लिए भरोसेमंद financial solution है जिन्हें अधिक पैसों की जरूरत होती है। दूसरे secured loan के विपरीत इंडिया में mortgage loan के इस्तेमाल पर कोई प्रतिबंध नहीं है। आप इन पैसों का इस्तेमाल किसी भी जरूरत के लिए कर सकते हैं। 

ये loan salaried और self employed दोनों के लिए है। Mortgage loan का पूरा process नीचे दिया जा रहा है। 

Mortgage Loan के लिए loan application form भरना सबसे पहला Step है। Lenders के निर्देशों के अनुसार आप ये form branch में या online भी भर सकते हैं। आमतौर पर form में आपको ये सारी जानकारी भरनी होगी।

  • Personal Information 
  • रोजगार संबंधी डिटेल्स 
  • Income Information 
  • Loan की आवश्यकताएं. 

Loan application form submit करने के बाद lenders द्वारा loan के लिए eligibility check किया जाएगा। Eligibility के अनुसार आपको rules दिए जाएंगे या lenders आपको eligibility बढ़ाने के लिए co applicant  जोड़ने के लिए कह सकता है। 

Mortgage Loan लेते वक्त किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए?

  • Mortgage Loan अधिकतर मामलों में किसी property को गिरवी रखकर के दी जाती है। कई मामलों में जैसे कि आप salaried हैं तो salary के आधार पर भी दी जाती है।
  • Mortgage Loan joint holder के साथ लें।
  • Down payment अधिक से अधिक करें। जिसके चलते आपको कम interest देना होगा।
  • सही समय पर अपना repayment & interest rate जमा करें। ऐसा नहीं करने पर आपके cibil score पर effect पड़ता है. 

Conclusion Points

Mortgage loan kya hota hai? जब कोई व्यक्ति अपना चल या अचल संपत्ति को बैंक के पास गिरवी रख कर के लोन लेता है उसे बंधक या मॉर्गेज लोन या फिर अगेंस्ट दी प्रॉपर्टी लोन कहते हैं.

मॉर्गेज लोन लोगों के लिए एक बेहतरीन विकल्प है, जिससे कम इंटरेस्ट रेट पर लोन लेना है और उसका सिविल स्कोर खराब हो साथ ही उसके पास कोई इनकम प्रूफ ना हो.

एक बात याद रहे कि यह लोन आपको हर कीमत पर चुकाना होगा वरना आपके द्वारा रखी गई गिरवी संपत्ति का नीलामी होगा या आप पर फौजदारी केस चलेगा.

FAQs+

मॉर्गेज लोन एक जटिल और भ्रमित करने वाला विषय हो सकता है। Rinkarj.com में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न अनुभाग होते हैं जो आपके कुछ सबसे महत्वपूर्ण सवालों के जवाब देने में मदद कर सकते हैं।

यह संसाधन आपको एक मॉर्गेज लोन लेने के ins और outs को समझने में मदद कर सकता है, और आपको अपने वित्तीय भविष्य के लिए सबसे अच्छा निर्णय लेने में मदद कर सकता है।

प्रश्न (1) – मॉर्गेज क्या है? 

उत्तर – एक बंधक एक लोन है जो वास्तविक संपत्ति द्वारा सुरक्षित किया जाता है। उधारकर्ता एक निश्चित अवधि, आमतौर पर 15 या 30 वर्षों में लोन का भुगतान करने के लिए सहमत होता है। 

प्रश्न (2) – मॉर्गेज लोन क्या होता है? 

उत्तर – एक मॉर्गेज लोन एक एक प्रकार का सिक्योर्ड लोन है जिसमें लोन लेने वाला व्यक्ति बैंक के पास अपनी संपत्ति को गिरवी रख कर के लोन लेता है.

प्रश्न (3) – Land mortgage loan क्या होता है? 

उत्तर – जब आप एक भूमि बंधक लोन एक प्रकार का सुरक्षित लोन है जिसमें लोन लेने वाला व्यक्ति अपनी जमीन को गिरवी रख कर के बैंक से लोन लेता है.

लोन लेने वाले व्यक्ति को कम ब्याज दर में, लंबी अवधि के लिए लोन मिल जाता है दूसरी तरफ बैंक का लोन भी सुरक्षित रहता है.

प्रश्न (4) – होम लोन और मोरगेज लोन में क्या अंतर है? 

उत्तर – घर बनाने या घर खरीदने के लिए बैंक से लिया जाने वाला लोन को होम लोन कहा जाता है. होम लोन लेने के लिए किसी अन्य संपत्ति को गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं होती है.

दूसरी तरफ मॉर्गेज लोन लेने के लिए कोई ना कोई संपत्ति को बैंक के पास गिरवी रखना होता है तभी उसके बदले बैंक अपने ग्राहक को लोन देती है.

प्रश्न (5) – होम लोन से मोरगेज लोन कैसे अलग है?

उत्तर – जी हां दोस्तों होम लोन, मॉर्गेज लोन से कुछ मायने में अलग है. होम लोन लेने के लिए किसी भी व्यक्ति को बैंक के पास कोई अन्य संपत्ति गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं है.

मॉर्गेज लोन लेने के लिए ग्राहक को अपने चल या अचल संपत्ति को बैंक के पास गिरवी रखना होता है. अगर इंटरेस्ट रेट की बात की जाए तो मॉर्गेज लोन कम होता है.

प्रश्न (6) – मॉर्गेज लोन और होम लोन बेहतर कौन है? 

उत्तर – यह व्यक्ति की वित्तीय स्थिति और लक्ष्यों पर निर्भर करता है। मॉर्गेज लोन में आमतौर पर होम लोन की तुलना में कम ब्याज दर होती है, जिससे यह उन लोगों के लिए अधिक आकर्षक विकल्प बन जाता है जो लंबे समय तक अपने घर में रहने की योजना बनाते हैं। 

हालांकि, होम लोन उन लोगों के लिए बेहतर विकल्प हो सकता है जो जल्दी से घर खरीदना चाहते हैं, क्योंकि अनुमोदन प्रक्रिया अक्सर तेज होती है।

प्रश्न (7) – लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी क्या होता है? 

उत्तर – संपत्ति पर लोन एक प्रकार का लोन है जो उधारकर्ता की संपत्ति को संपार्श्विक के रूप में उपयोग करके सुरक्षित किया जाता है। 

लोन का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जैसे गृह सुधार, व्यवसाय विस्तार, या व्यक्तिगत खर्च। लोन राशि आम तौर पर संपत्ति में इक्विटी पर आधारित होती है, जो संपत्ति के मूल्यांकित मूल्य और बकाया बंधक शेष के बीच का अंतर है।

प्रश्न (8) – पट्टे पर संपत्ति के खिलाफ ऋण कैसे लें? 

उत्तर – पट्टे पर दी गई संपत्ति पर ऋण एक प्रकार का ऋण है जो आपको पट्टे पर दी गई संपत्ति को संपार्श्विक के रूप में उपयोग करके धन उधार लेने की अनुमति देता है। 

यह एक उपयोगी विकल्प हो सकता है, यदि आपको पैसे की आवश्यकता है. लेकिन पारंपरिक होम इक्विटी ऋण के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए आपके घर में इक्विटी नहीं है। 

यदि आप अपनी लीज की गई संपत्ति पर ऋण लेने पर विचार कर रहे हैं, तो कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए, जिसमें शामिल जोखिम और आपके क्रेडिट पर संभावित प्रभाव शामिल हैं।

प्रश्न (9) – Mortgage loan kaise milta hai? 

उत्तर – मॉर्गेज लोन लोन लेने के लिए आपको पहले कुछ तैयारी करना होगा. आप अपने जिस किसी भी संपत्ति या जमीन को गिरवी रख कर लोन लेना चाहते हैं, उसके डॉक्यूमेंट को ठीक करवाना होगा.

उसके बाद आपको पता करना होगा कि आप के आस पस कौन सी बैंक है जो इस प्रकार की लोन देती है. जब आपको बैंकों के बारे में पता चल जाए तो आपको वहां पर लोन अप्लाई करना होगा.

जब आप लोन के लिए अप्लाई कर देंगे तो बैंक के संबंधित अधिकारी आपके जमीन या किसी अन्य जो भी संपत्ति आप ने गिरवी रखा है उसकी इंक्वायरी में आएंगे. अगर सब कुछ ठीक रहा तो आपको लोन मिल जाएगा.

प्रश्न (10) – भारत में मॉर्गेज लोन किन किन बैंकों से मिलता है? 

उत्तर – भारत में कुछ बैंक ऐसे हैं जो आपको बंधक ऋण दे सकते हैं। भारतीय स्टेट बैंक, एचडीएफसी बैंक, पंजाब नेशनल बैंक और आईसीआईसीआई बैंक आदि विकल्प हैं। ऋण के लिए आवेदन करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि कौन सा बैंक आपके लिए सबसे अच्छा है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

close